मित्रों ! उत्तराखंड की घटना ने एक ऐसा घाव छोड़ा है जो शायद बरसों तक नहीं भर सकता | सबसे ज्यादा दुःख तो तब हुआ जब उस समय की कई घटनाओं के बारे में पता चला | कोई पानी बिना मर रहा था और कुछ लोग उस समय पानी का सौदा कर रहे थे और २०० रुपये अधिक दाम एक बोतल पानी का वसूल रहे थे | कुछ उस समय लाशों पर से गहने उतार रहे थे, और इसके लिए उन्होनें उन शवों की उंगलियाँ काटने से गुरेज नहीं किया | उनके सामने कई लोग मदद के लिए पुकार रहे थे मगर उन्होंने उन्हें अनसुना कर अपना काम जारी रखा | क्या हो गया है हमारे समाज को ? मानवता को ? कुछ पंक्तियाँ अपने–आप होंठ गुनगुनाते गए जिन्हें मैं आप को प्रेषित कर रहा हूँ |

       

मानवता अब तार-तार है, नैतिकता अब कहीं दफ़न है |

बीते पल ये कहते गुजरे, संभलो आगे और पतन है |

 

लुटे हुए को लूट रहे हैं, मरे हुए को काट रहे हैं;

कुछ ऐसे हैं आफ़त में भी; रुपये, गहने छांट रहे हैं;

मरते रहे कई पानी बिन, वे अपने धंधे में मगन हैं……

 

जो शासक हैं देख रहे हैं, उनको बस अपनी चिंता है;

मरती है तो मर जाए ये, ये जनता है वो नेता हैं;

आग लगाने खड़े हुए हैं जनता ओढ़े हुए कफ़न है…

 

भर जाते हैं घाव बदन के, मन के जख्म नहीं भरते;

आफ़त ही ये ऐसी आई, करते भी तो क्या करते;

क्या वे फिर से तीर्थ करेंगे, उजड़ा जिनका ये जीवन है…

Advertisements

Comments on: "मानवता अब तार-तार है" (26)

  1. ऐसी घटनाएं इंसानीयत खत्म होना बयां करती है। आपकी संवेदनशील आत्म विह्वल हो थरथरा रही है नतिजन चंद शब्दों में आपने समय को बांधा।

  2. बेहद सुन्दर प्रस्तुति ….!आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल बुधवार (26-06-2013) के धरा की तड़प ….. कितना सहूँ मै …..! खुदा जाने ….!१२८८ ….! चर्चा मंच अंक-1288 पर भी होगी!सादर…!शशि पुरवार

  3. सुन्दर अद्भुत लेखनी को मेरा हार्दिक अभिनन्दन ……

  4. बहुत सटीक और सार्थक लेखन , अब अगर नहीं सम्हले तो आगे पतन ही पतन है ।

  5. सचमुच मानवता तारतार है …..सार्थक लेखन

  6. ऐसे ही परख होती है कि आदमी कितना आदमी है!

  7. सुन्दर प्रस्तुति-बधाई-

  8. बेहद शर्मनाक घटना की हकीकत को बेहद संजीदगी से शब्दों के मध्यम से व्यक्त है

  9. गहरा क्षोभ और दर्द लिए है रचना …. शर्म की बात है … इन्सान कैसे दूसरे की मजबूरी का फायदा उठता है …

  10. बेहद शर्मनाक स्थिति…अंतस को झकझोरती बहुत सुन्दर और सटीक प्रस्तुति…

  11. आखिर ऐसा क्यूँ ?बस यही प्रश्न जहन में उठता है आखिर मानवता कहाँ चली गई ….मर्मस्पर्शी रचना

  12. आज के हालात पर सटीक रचना … मानवता नाम का शब्द अब क्या लोगो के शब्द कोष से मिट ही जायेगा ??

  13. बहुत ही मार्मिक पंक्तियां।

  14. शर्म की तो बात है ही, पर इन्हें शर्म कहां आती है? बहुत सटीक.रामराम.

  15. man ke jhakhm nahin bharte ….!!sach likha hai …!!bahut sharmanaak laga sab sun kar ,sab padh kar ….!!

  16. अपनी भावनाओं को बहुत ही सुन्दर शब्दों में व्यक्त किया है आपने..

  17. उत्तराखण्ड की पीड़ा गीत में उतर आई है।

  18. इंसानियत शर्मसार है। संवेदनशील कविता में आपने सबकी भावनाओं को रूप दिया है।

  19. ये घटनाएँ मानवता को शर्मसार करने वाली हैं. क्या कहें. बेहतरीन मार्मिक प्रस्तुति.

  20. Thanks for your lovely comment on my blog. Hope to see you more. Sir, I can't write what you post, but I am sure it must be something special.Follow each other.

  21. Your way of writing & expressing your views is just inimitable…… kudosplz visit my online magazine and blog : website : http://www.swapnilsaundaryaezine.hpage.com Blog : http://swapnilsaundaryaezine.blogspot.in/2013/08/blog-post_8.html

  22. very appealing presentation.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

टैग का बादल