आज एक ग़ज़ल प्रस्तुत कर रहा हूँ जिसे आप अवश्य पसन्द करेंगे, ऐसी आशा है…

जो जहाँ है परेशान है ।
इस तरह आज इन्सान है।


दिल में एक चोट गहरी-सी है,
और होठों पे मुस्कान है।


कुछ न कुछ ढूँढते हैं सभी,
और खुद से ही अन्जान है।


एक शोला है हर आँख में,
और हर दिल में तूफान है।


मंजिलों का पता ही नहीं,
हर तरफ एक बियाबान है।


आदमी में में ही है देवता,
आदमी में ही शैतान है।


सबको धोखे दिए जा रहे,
और खुशियों का अरमान है

Advertisements

Comments on: "जो जहाँ है परेशान है" (76)

  1. आदमी की परेशानी का मूल उसके खुद के अन्दर है बहुत ही सुन्दर गजल !

  2. आदमी की परेशानी का मूल उसके खुद के अन्दर है
    बहुत ही सुन्दर गजल !

  3. एक दम सही ….जो जहाँ है परेशान है जिन्दगी बन गयी एक इम्तहान है |शुभकामनायें!

  4. एक दम सही ….जो जहाँ है परेशान है
    जिन्दगी बन गयी एक इम्तहान है |
    शुभकामनायें!

  5. BESHAK PARESHAN HAI HAR INSHAN ,BEHATAREEN GAZAL,SADR

  6. BESHAK PARESHAN HAI HAR INSHAN ,BEHATAREEN GAZAL,SADR

  7. मंगलवार 02/04/2013 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं …. !!आपके सुझावों का स्वागत है …. !!धन्यवाद …. !!

  8. मंगलवार 02/04/2013 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं …. !!
    आपके सुझावों का स्वागत है …. !!
    धन्यवाद …. !!

  9. keep writing sir um following..now onwards.

  10. keep writing sir um following..now onwards.

  11. उम्दा लिखा है..

  12. उम्दा लिखा है..

  13. बहुत सुन्दर शव्दों से सजी है आपकी गजल ,उम्दा पंक्तियाँ .

  14. बहुत सुन्दर शव्दों से सजी है आपकी गजल ,उम्दा पंक्तियाँ .

  15. कुछ न कुछ ढूंढते सभी और खुद से ही अनजान हैं…..आजकल के हालात।

  16. कुछ न कुछ ढूंढते सभी और खुद से ही अनजान हैं…..आजकल के हालात।

  17. वाह! बहुत सुन्दर.सादरनीरज 'नीर'KAVYA SUDHA (काव्य सुधा)

  18. वाह! बहुत सुन्दर.
    सादर
    नीरज 'नीर'
    KAVYA SUDHA (काव्य सुधा)

  19. SUNDAR RACHNAYEN HAI AAPKE BLOG PAR , BLOG PAR NA AANE KA AFSOS PRASANN JI

  20. SUNDAR RACHNAYEN HAI AAPKE BLOG PAR , BLOG PAR NA AANE KA AFSOS PRASANN JI

  21. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ !सादर आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में अर्ज सुनिये

  22. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

    महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ !
    सादर

    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    अर्ज सुनिये

  23. गहन चिंतन से उपजी रचना. बहुत सुंदर.महाशिवरात्रि की शुभकामनाएँ.

  24. गहन चिंतन से उपजी रचना. बहुत सुंदर.

    महाशिवरात्रि की शुभकामनाएँ.

  25. दिल में एक चोट गहरी सी हीऔर होंठों पे मुस्कान है ….इक दर्द भरी सच्चाई ….!!

  26. दिल में एक चोट गहरी सी ही
    और होंठों पे मुस्कान है ….

    इक दर्द भरी सच्चाई ….!!

  27. बहुत सुंदर

  28. बहुत सुंदर

  29. सत्य है …शुभकामनायें आपको !

  30. सत्य है …
    शुभकामनायें आपको !

  31. सभी शेर बहुत आर्थपूर्ण, दाद स्वीकारें.

  32. सभी शेर बहुत आर्थपूर्ण, दाद स्वीकारें.

  33. बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति! मेरी बधाई स्वीकारें।कृपया यहां पधार कर मुझे अनुग्रहीत करें-http://voice-brijesh.blogspot.com

  34. बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति! मेरी बधाई स्वीकारें।
    कृपया यहां पधार कर मुझे अनुग्रहीत करें-
    http://voice-brijesh.blogspot.com

  35. बहुत अच्छी ग़ज़ल…सभी शेर लाजवाब..अनु

  36. बहुत अच्छी ग़ज़ल…
    सभी शेर लाजवाब..

    अनु

  37. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

  38. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

  39. थोडा उपाहास थोडा व्यंग्य। इससे जुडा वास्तववादी चित्रण। सहज सुंदर और चुटिली गजलें।

  40. थोडा उपाहास थोडा व्यंग्य। इससे जुडा वास्तववादी चित्रण। सहज सुंदर और चुटिली गजलें।

  41. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

  42. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

  43. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

  44. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

  45. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

  46. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

  47. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

  48. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

  49. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

  50. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

  51. बहुत उम्दा अभिव्यक्ति.

  52. बहुत उम्दा अभिव्यक्ति.

  53. bahut behtareen abhivyakti :)umda…..

  54. bahut behtareen abhivyakti 🙂
    umda…..

  55. Kya yaar kitne dino ke baat kuch acha padh raha hu dil khush kar diyaseo

  56. Kya yaar kitne dino ke baat kuch acha padh raha hu dil khush kar diya
    seo

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

टैग का बादल