यह पूर्वप्रकाशित रचना पहले भी 2009 में  मैं अपने ब्लाग पर डाल चुका हूँ । हालांकि आडियो क्वालिटी इतनी अच्छी नहीं है क्योंकि यह मोबाइल से रिकार्ड किया गया है आज इस पूर्वप्रकाशित रचना को यहाँ लिखकर और अपनी आवाज़ में प्रस्तुत कर रहा हूँ…

तू मुझको याद रखना, मेरी बात याद रखना।
गुजरे जो खूबसूरत, लम्हात याद रखना।

बादल बरसने वाले, आँखों में जब भी छाए;
मेरे साथ भींगने की, बरसात याद रखना।

तुमसे जुदा हो जाऊं, मैं कब ये चाहता था;
काबू में नहीं होते, हालात याद रखना।

ग़मगीन तुम न होना, कभी इन जुदाइयों से;
मैं हूँ तुम्हारे दिल में तेरे साथ याद रखना।

नहीं आ सकूंगा मैं तो, तेरे पास ग़म न करना,
तू अपने मुहब्बत की, सौगात याद रखना।

मेंहदी लगी न तुझको, सेहरा न मैंने बाँधा;
तो क्या हुआ यादों की, बारात याद रखना।

आप आवाज़ यहाँ सुन सकते हैं…
तू मुझको याद रखना/pbchaturvedi/Audio 

आप यू-ट्यूब पर यहाँ सुन सकते हैं…

Advertisements

Comments on: "तू मुझको याद रखना/pbchaturvedi" (22)

  1. यादों की खूबसूरत पूंजी

  2. यादों की खूबसूरत पूंजी

  3. गाए जाने योग्य अच्छी रचना है।

  4. गाए जाने योग्य अच्छी रचना है।

  5. wah wah anand aa gya ….ak achhi rachana ….badhai

  6. wah wah anand aa gya ….ak achhi rachana ….badhai

  7. bade nazuk se bhaw hain…..bahot achchi lagi.

  8. bade nazuk se bhaw hain…..bahot achchi lagi.

  9. अच्छी है यादों की बारात ..

  10. अच्छी है यादों की बारात ..

  11. बहुत सुन्दर भावपूर्ण है गजल !
    बहुत बहुत आभार ..

  12. बहुत सुन्दर भावपूर्ण है गजल !
    बहुत बहुत आभार ..

  13. वाह! बहुत खूब…आप ने तो साथ में संगीत भी दिया है.
    बहुत अच्छा लगा सुनकर.

  14. वाह! बहुत खूब…आप ने तो साथ में संगीत भी दिया है.
    बहुत अच्छा लगा सुनकर.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

टैग का बादल