एक दर्द, एक आह, एक चुभन, एक कभी न खत्म होने वाला दुख दे गये जगजीत सिंह जी …………। टी वी पर समाचार देखा तो सहसा विश्वास ही नहीं हुआ। पारम्परिक ग़ज़ल-गायकी से हटकर ग़ज़ल को एक नया आयाम देने वाले, ग़ज़ल को एक नई ऊँचाई देने वाले, महान संगीत साधक जगजीत सिंह जी ने दुनिया से कूच करके एक ऐसी रिक्तता दे दी है जिसे भरना शायद नामुमकिन है। अब दूसरा जगजीत सिंह कहाँ मिल सकता है।
             मैं अपने जीवन में दो पुरुष गायकों से बहुत प्रभावित रहा- एक तो मुकेश जी और दूसरे जगजीत सिंह जी। सच पूछिए तो मेरा संगीत में रुझान ही इनकी वजह से हुआ। आज मेरे दोनों आदर्श इस दुनिया में नहीं रहे……..यकीन नहीं होता। कुछ साल पहले जब जगजीत सिंह जी बनारस आये थे तो उनको सुनने का मौका मिला था। मुझे एक घटना याद आ रही है। कुछ बच्चे उनसे बार -बार आटोग्राफ ले रहे थे और उनकी भीड़ बढ़ती ही जा रही थी। उस समय मैनें उनको बच्चों से शरारत करते हुये देखा था। उन्होंने एक बच्चे से कहा- पैसे लाये हो, तभी आटोग्राफ दूँगा। बच्चे ने कहा- नहीं, पैसे तो नहीं हैं। थोड़ी देर तक बच्चा परेशान रहा फिर उन्होंने हँसते हुये अपना आटोग्राफ दिया। सभी हंसने लगे।
             जगजीत सिंह जी के इस दुनिया से जाने के साथ-साथ मेरा भी एक सपना उनके साथ ही चला गया। मैं चाहता था कि मेरी किसी ग़ज़ल को उनकी आवाज़ मिले पर ……………
मेरी ओर से उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि…………..

Advertisements

Comments on: "जगजीत सिंह- अब तो बस याद ही बाकी है…" (9)

  1. chaturvedi jee mujhe to abhi tak yakeen nahe ho raha hai ki jagjit jee hamare beech nahee hain….

    i m a die hard fan of him….ishwar unki aatma ko shaanti de…

    mere naye post pe aapka swaagat hai

    http://raaz-o-niyaaz.blogspot.com/2011/10/blog-post.html

  2. chaturvedi jee mujhe to abhi tak yakeen nahe ho raha hai ki jagjit jee hamare beech nahee hain….

    i m a die hard fan of him….ishwar unki aatma ko shaanti de…

    mere naye post pe aapka swaagat hai

    http://raaz-o-niyaaz.blogspot.com/2011/10/blog-post.html

  3. जगजीत सिंह जी की ग़ज़लों के हम भी दीवाने रहे । अब तो उनकी आवाज़ ही उनकी पहचान रहेगी ।
    विनम्र श्रधांजलि ।

  4. जगजीत सिंह जी की ग़ज़लों के हम भी दीवाने रहे । अब तो उनकी आवाज़ ही उनकी पहचान रहेगी ।
    विनम्र श्रधांजलि ।

  5. दीपावली केशुभअवसर पर मेरी ओर से भी , कृपया , शुभकामनायें स्वीकार करें

  6. मेरी ओर से जगजीत सिंह जी को विनम्र श्रद्धांजलि…..

  7. bahut achchha likha hai aapne…..

  8. एक फन था उनमें,

    आज फकत याद है बाकि …

    उनको समर्पित मेरी रचना भी पढ़ें…

    http://kumar-sagar.blogspot.in/2011/10/blog-post.html

  9. एक फन था उनमें,

    आज फकत याद है बाकि …

    उनको समर्पित मेरी रचना भी पढ़ें…

    http://kumar-sagar.blogspot.in/2011/10/blog-post.html

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

टैग का बादल