मित्रों!अपने तीन ब्लाग मेरी गज़लें,मेरे गीत और रोमांटिक रचनायें को इस एक ही ब्लाग में समेटने के बाद मैंने रोमांटिक रचनायें कम ही पोस्ट की है । इस बार एक गीत प्रस्तुत है-


प्यार तब और बढ़ा और बढ़ा और बढ़ा,
जब लगाये गये पहरे प्यार के ऊपर…..

कोई अनारकली दीवार में चुनवाई गई,
कोई लैला कहीं यूं ही तड़पाई गई,
यूं सरेआम जमाने में रुसवाई हुई,
सितम जो ढाए गए कर सके कोई असर
प्यार तब और बढ़ा और बढ़ा और बढ़ा…..

कहीं पे कैस कोई प्यार में दीवाना हुआ,
कहीं रांझा कोई हीर का निशाना हुआ,
और हर प्यार के खिलाफ़ ये जमाना हुआ,
मर गये इश्क के मारे ये सितम सहसह कर
प्यार तब और बढ़ा और बढ़ा और बढ़ा……..

Advertisements

Comments on: "प्यार तब और बढ़ा" (24)

  1. बहत सुंदर ग़ज़ल….

  2. बहत सुंदर ग़ज़ल….

  3. मर गये इश्क के मारे ये सितम सह-सह कर…प्यार तब और बढ़ा और बढ़ा और बढ़ा……..सितम तो प्यार के लिये ईंधन है. सितम बढेगा तो प्यार और बढ ही जायेगा.

  4. मर गये इश्क के मारे ये सितम सह-सह कर…
    प्यार तब और बढ़ा और बढ़ा और बढ़ा……..
    सितम तो प्यार के लिये ईंधन है. सितम बढेगा तो प्यार और बढ ही जायेगा.

  5. प्यार तब और बढ़ा और बढ़ा और बढ़ा,जब लगाये गये पहरे प्यार के ऊपर….इसीको रिबाउंड फिनोमिना कहते हैं।बहुत सुंदर गीत।

  6. प्यार तब और बढ़ा और बढ़ा और बढ़ा,
    जब लगाये गये पहरे प्यार के ऊपर….

    इसीको रिबाउंड फिनोमिना कहते हैं।
    बहुत सुंदर गीत।

  7. कोई अनारकली दीवार में चुनवाई गई,कोई लैला कहीं यूं ही तड़पाई गई,यूं सरेआम जमाने में रुसवाई हुई,सितम जो ढाए गए कर न सके कोई असर…प्यार तब और बढ़ा और बढ़ा और बढ़ा…..dil ko chuti rachna .badhai ho bhiya……………aur taswire bhi bahut achi hai kas hum bhi sath me hote………vishnu prabhakar(upadhayay101@yahoo.com)

  8. कोई अनारकली दीवार में चुनवाई गई,
    कोई लैला कहीं यूं ही तड़पाई गई,
    यूं सरेआम जमाने में रुसवाई हुई,
    सितम जो ढाए गए कर न सके कोई असर…
    प्यार तब और बढ़ा और बढ़ा और बढ़ा…..

    dil ko chuti rachna .badhai ho bhiya……………
    aur taswire bhi bahut achi hai kas hum bhi sath me hote………vishnu prabhakar(upadhayay101@yahoo.com)

  9. अच्छा गीत बना है प्रसन्न साब

  10. अच्छा गीत बना है प्रसन्न साब

  11. Nice Post!! Nice Blog!!! Keep Blogging….Plz follow my blog!!!www.onlinekhaskhas.blogspot.com

  12. प्यार तब और बढ़ा और बढ़ा और बढ़ा,जब लगाये गये पहरे प्यार के ऊपर…..-यही तो सच्चाई है।

  13. प्यार तब और बढ़ा और बढ़ा और बढ़ा,
    जब लगाये गये पहरे प्यार के ऊपर…..
    -यही तो सच्चाई है।

  14. baat purani magar naye chole ,achchi lagi

  15. baat purani magar naye chole ,achchi lagi

  16. bahut badhiya रंग लेकर के आई है तुम्हारे द्वार पर टोली उमंगें ले हवाओं में खड़ी है सामने होली निकलो बाहं फैलाये अंक में प्रीत को भर लो हारने दिल खड़े है हम जीत को आज तुम वर लो मधुर उल्लास की थिरकन में आके शामिल हो जाओ लिए शुभ कामना आयी है देखो द्वार पर होली

  17. bahut badhiya

    रंग लेकर के आई है तुम्हारे द्वार पर टोली
    उमंगें ले हवाओं में खड़ी है सामने होली

    निकलो बाहं फैलाये अंक में प्रीत को भर लो
    हारने दिल खड़े है हम जीत को आज तुम वर लो
    मधुर उल्लास की थिरकन में आके शामिल हो जाओ
    लिए शुभ कामना आयी है देखो द्वार पर होली

  18. interesting blog, i will visit ur blog very often, hope u go for this website to increase visitor.Happy Blogging!!!

  19. interesting blog, i will visit ur blog very often, hope u go for this website to increase visitor.Happy Blogging!!!

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

टैग का बादल